पत्रिका ने बिना केस वाले कर्मचारियों को तबादले के बहाने हटाना किया शुरू, अलवर और सीकर से तबादले

अलवर.सीकर। सुप्रीम कोर्ट के रूख से घबराए राजस्थान पत्रिका ने अब अपने पुराने ग्रेडधारी कर्मचारियों को तबादले के बहाने हटाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। अलवर पत्रिका से खबर है कि वहां मशीन में कार्यरत छीतरमल का तबादला बैंगलुरू कर दिया है। वहीं सीकर से एक का तबादला जोधपुर किया गया है। एक अन्य कर्मचारी का तबादला भी बैंगलुरू किया गया है, अभी तक उसके नाम की जानकारी नहीं मिल पाई है। खास बात यह है कि ये सभी कर्मचारी मजीठिया केस में नहीं गए थे। फिर भी इनका तबादला करना लोगों के लिए चर्चा बन गया है। सूत्रों का यह कहना है कि वह पुराने ग्रेडधारी कर्मचारियों से पत्रिका निजात पाना चाहता है। इसलिए इनको तबादले के बहाने हटाने की मुहिम चलाई जा रही है।

इसलिए कर रहा है तबादले

सूत्रों का कहना है कि पत्रिका प्रबंधन केस में नहीं गए कर्मचारियों को मजीठिया का लाभ नहीं देना चाहता है। इसलिए वह तबादला कर ऐसे कर्मचारियों के मन में डर पैदा करना चाह रहा है। जिससे अन्य कर्मचारी मजीठिया की मांग नहीं करें और आसानी से स्काई मीडिया कम्पनी में ज्वॉइनिंग ले लें।


इसलिए निचले स्तर से शुरूआत

सूत्रों का कहना है कि पत्रिका प्रबंधन ने निचले स्तर से तबादले करने की शुरूआत की है। वे देखना चाहते हैं कि कोई कर्मचारी इसका विरोध करता है या नहीं। यदि कोई विरोध नहीं हुआ तो सम्पादकीय विभाग, वितरण विभाग और मार्केंटिंग विभाग, विज्ञापन विभाग सहित पूरे पत्रिका कर्मचारियों पर यही फार्मूला अपनाया जाएगा। सभी विभागों में से कुछ कर्मचारियों का तबादला किया जाएगा, जिससे दूसरे कर्मचारी चुपचाप स्काई मीडिया में चले जाएं और मजीठिया की मांग प्रबंधन से नहीं करें।