पत्रिका को सात दिन में मजीठिया देने का आदेश

भोपाल। अगर कानून अंधा होता है तो यह भी सही है कि कानून के हाथ लम्बे होते है। यही कारण है कि मध्यप्रदेश के श्रम विभाग ने अखबार मालिकों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। इसी क्रम में मध्य प्रदेश के नीमच सेंटर से मजीठिया कर्मचारियों के लिए खुशखबर है। वहां हमारे साथी गोपाल कुमावत लम्बे समय से संघर्ष कर रहे थे। उनकी शिकायत पर श्रम निरीक्षकों की टीम ने नीमच कार्यालय पहुंचकर पूछताछ की। रिकोर्ड खंगाला और पाया कि कर्मचारियों को मजीठिया के हिसाब से वेतन नहीं मिल रहा। श्रम निरीक्षकों ने पत्रिका को सात दिन के भीतर मजीठिया के हिसाब से वेतन देने का निर्देश दिया है। ऐसा नहीं होने पर पत्रिका मालिकों को पता चल जाएगा कि कानून के हाथ कितने लम्बे होते हैं।