कर्मचारी भूखे मर रहे और माननीय कोठारी अभिनन्दन करा रहे

जयपुर। देश की राजधानी स्थित भारती विद्या भवन के सभागार में राजस्थान पत्रिका के मालिक गुलाब कोठारी अपना अभिनंदन समारोह मना रहे हैं। समारोह में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान समेत कई नेताओं और विद्वानों को अपने खर्चे पर बुलाकर माननीय कोठारी अपनी तारीफ में कशीदे पढ़वा रहे हैं। सभी अतिथियों के आने-जाने, ठहरने और खाने-पीने सहित लग्जरी इंतजामातों वाले समारोह पर पैसा पानी की तरह बहाया जा रहा है, वहीं दूसरी तरफ राजस्थान और मध्यप्रदेश में उनके कर्मचारी दो वक्त की रोटी के लिए हाहाकार कर रहे हैं। उन्हें जितनी सैलेरी सालभर में नहीं दी जाती, उससे कई गुना अधिक पैसा इस समारोह पर दो-तीन दिन में स्वाहा कर दिया जाएगा। समारोह में वेद-विज्ञान और पत्रकारिता के सिद्वांतों की बात की जा रही है। अपने कर्मचारी भूखे मरें, मजीठिया के हिसाब से सैलेरी ना दें और खुलेआम सुप्रीम कोर्ट के आदेश की अवमानना करें और फिर पत्रकारिता के सिद्वांतों पर बात करना उन्हें कतई शोभा नहीं देता है। पैसे खर्च कर तो कोई भी अपनी तारीफ करवा सकता है, लेकिन बात तो तब है जब कोई बिना लोभ-लालच के किसी की तारीफ करे। इतिहास गवाह है कि ऐसे कई राजा-महाराजा हुए, जो अपनी तारीफ करने वालों को इनाम दिया करते थे, लेकिन ऐसे राजाओं को आज कोई याद भी नहीं करता है। वहीं कुछ ऐसे भी हुए जिन्होंने अपने अच्छे कार्यों से तारीफ पाईं, ऐसे ढेरों राजाओं के नाम सब लोग आज भी जानते हैं। अब इतिहास में माननीय कोठारी अपना नाम कैसे दर्ज कराना चाहते हैं, ये तो वे ही बेहतर जानते हैं या फिर समारोह में उनकी तारीफों के पुल बांधने वाले शिवराज सिंह चौहान।
जैसा पत्रिका के पीड़ित कर्मचारियों ने मीडिया होल्स को बताया