पेपरलेस समाचार-पत्र की ओर पत्रिका मालिक

जयपुर। राजस्थान पत्रिका के मालिक नीहार कोठारी भले ही भारत में रहते हों, लेकिन उनकी सोच अमरीकी है। इसलिए तो वे अमरीकी मीडिया की तर्ज पर चल रहे हैं। उनका मानना है कि अमरीका में जैसे अखबार बन्द हुए और अब वहां ऑनलाइन न्यूज पढ़ी जा रही है। ठीक वैसे ही भारत में भी होगा। इसलिए वे अपने समाचार-पत्र राजस्थान पत्रिका पर ध्यान ना देकर डिजीटल संस्करण पर ज्यादा ध्यान दे रहे हैं। इसी की झलक उत्तरप्रदेश में भी दिखी। वहां पर राजस्थान पत्रिका प्रबंधन ने समाचार-पत्र लॉन्च नहीं किया बल्कि वेबसाइट को ही लॉन्च किया। सूत्रों के मुताबिक नीहार कोठारी राजस्थान में भी जल्द ही दोबारा से वेबसाइट रिलॉन्च करेंगे। उनकी सोच दैनिक भास्कर को पछाड़ने की है। इसलिए वे अपने समाचार-पत्र पर ध्यान नहीं दे रहे हैं और कॉस्ट कटिंग के नाम पर धीरे-धीरे उसे बंद किया जा रहा है। यानी जल्द ही यह अखबार सिर्फ फाइलों में ही नजर आएगा। अब देखने वाली बात यह है कि राजस्थान पत्रिका डिजीटल जगत में अपने आप को कितना स्थापित कर पाता है।

अधिकारियों के केबिन से अखबार आउट

सूत्रों के मुताबिक नीहार कोठारी के आदेश के बाद सभी अधिकारियों के केबिन में अखबार जाना बन्द हो गया है। ब्रान्चों में भी अखबार नहीं जा रहा है। नीहार कोठारी के आदेश हैं कि सभी ऑनलाइन अखबार पढ़ें। उनका कहना है कि जब माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कैशलेस इकॉनोमी की बात कर सकते हैं तो हम पेपर लेस समाचार-पत्र क्यों नहीं कर सकते हैं। उनके आदेश के बाद सभी अधिकारी ऑनलाइन न्यूज पेपर पढ़ रहे हैं। जो अधिकारी ऑनलाइन अखबार खोलना नहीं जानते थे, वे भी अब थोड़ा कम्प्यूटर और टेक्नोलॉजी फ्रेंडली हो रहे हैं।