अब पत्रिका मालिक बेचेंगे पतंजलि का तेल और साबुन

जयपुर। अभी हाल ही में पत्रिका प्रबंधन ने फोर्ट फोलियो कम्पनी में तैनात चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को नोटिस दिया था। उसके बाद से ही यह माना जा रहा था कि उनकी नौकरी खत्म। ऐसे में ये लोग भी केस में जाने की सोच रहे थे। लेकिन, पत्रिका प्रबंधन ने इनको भी ठिकाने लगाने की तरकीब सोच रखी है। चूंकि, सुप्रीम कोर्ट ने यह साफ कर ही दिया है कि ठेकाकर्मी भी वेज बोर्ड का हकदारी है। ऐसे में पत्रिका प्रबंधन ने मजीठिया से बचने के लिए फोर्ट फोलियो नामक जो कम्पनी खोली थी, उसे बन्द कर रहा है। जिससे ठेकाकर्मियों को मजीठिया का हक नहीं देना पड़े। दूसरा नौकरी जाने पर ये लोग केस में भी नहीं जाए, इसका प्रबंध भी कर दिया है। पत्रिका प्रबंधन ने क्या किया है प्रबंध जानिए विस्तार से।

पतंजलि स्टोर में शिफ्ट होंगे फोर्ट फोलियो के कर्मचारी

सूत्रों का कहना है कि पत्रिका प्रबंधन लक्ष्मी कॉम्पलेक्स में पतंजलि का बहुत बड़ा स्टोर खोल रहे हैं। बाबा रामदेव और पत्रिका प्रबंधन की दोस्ती को तो सभी जानते ही हैं। सूत्रों का कहना है कि संभवतः यह स्टोर राजस्थान का सबसे बड़ा रिटेल और थोक का होगा। ऐसे में पत्रिका प्रबंधन को इस स्टोर में कार्य करने के लिए कर्मचारियों की बड़ी फौज की जरूरत होगी। ऐसे में सांप भी मर जाए और लाठी भी ना टूटे, कुछ ऐसा ही पत्रिका प्रबंधन ने भी सोचा है। सूत्रों का कहना है कि फोर्ट फोलियो से हटाए गए चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को पतंजलि स्टोर में लगाया जाएगा। संभवतः जनवरी में इस स्टोर का शुभारम्भ किया जाएगा। पतंजलि का माल आ चुका है। सूत्रों का कहना है कि फोर्ट फोलियो के अन्य कर्मचारियों को भी इसमें लगाया जाएगा। इससे ये लोग मजीठिया का हक मांगने लायक भी नहीं रहेंगे और नौकरी मिलने पर ये लोग कोर्ट का दरवाजा भी नहीं खटखटाएंगे। सूत्रों का कहना है कि ऐसे में पत्रिका ने फोर्ट फोलियो से लेकर परमानेंट कर्मचारियों तक को ठिकाने लगाने की तरकीब सोच रखी है और उसके आदेश इसी राह से प्रेरित हैं।