पत्रिका के सर्कुलेशन हैड ने भरी मीटिंग में पत्रकारों को बताया कुत्ता, सम्पादकीय विभाग के नेशनल हैड भुवनेश जैन भी थे मौजूद

जयपुर। राजस्थान पत्रिका के जयपुर स्थित झालाना कार्यालय में मंगलवार को सम्पादकीय विभाग और वितरण विभाग की मीटिंग आयोजित की गई थी। इस बैठक में सम्पादकीय विभाग के नेशनल हैड भुवनेश जैन, वितरण विभाग के नेशनल हैड बी.आर. सिंह, वितरण विभाग के वरिष्ठ अधिकारी अवधेश जैन मौजूद थे। बी.आर.सिंह ने पत्रकारों पर तंज कसते हुए कहा कि जनता के बीच उनकी इमेज कुत्ते की तरह हो गई है। पत्रकार किसी भी कार्यक्रम में जाता है तो आयोजक कहते हैं कि लो आ गया कुत्ता, अब इसे भी बोटी देनी पड़ेगी। इस दौरान सारे पत्रकार और नेशनल हैड भुवनेश जैन चुपचाप सुनते रहे और बी.आर.सिंह की इस बात का विरोध नहीं किया। बी.आर.सिंह इतने पर ही नहीं रूके, उन्होंने कहा कि अब खबर लिखने के बजाय अफसरों से तालमेल बिठाओ और पत्रिका का बिजनेस बढ़ाओ। खबर तो वैसे भी अपने आप ही आती है, पत्रकार तो किसी के बताने पर ही तो खबर लिखता है। साथ ही बी.आर.सिंह ने सम्पादकीय विभाग के कर्मचारियों से कहा कि पत्रिका का नया कलेवर लोगों को बेहद पसंद आ रहा है। लेकिन, यह समुचित ढंग से जनता तक नहीं पहुंच पा रहा है, इसलिए आप लोग अपने आस-पास ग्राहक बनाओ और प्रति पत्रकार को २५-२५ कॉपियां बेचने का फरमान सुना दिया। इसके बाद भी बी.आर.सिंह नहीं रूके, उन्होंने पत्रकारों से कहा कि अब रोबोट पत्रकारित का समय है। यानी कहीं से कंटेंट उठाओ, थोड़ा सा चेंज करो और अपने यहां प्रकाशित कर लो। इस दौरान सम्पादकीय विभाग के नेशनल हैड भुवनेश जैन ने कहा कि अब वितरण विभाग और सम्पादकीय विभाग को मिलकर कार्य करना है। हम तो अभी तक कार्य कर रहे हैं, वो तो चलता ही रहेगा, अब समाचार संकलन के साथ सुबह अखबार की कॉपियां भी बेचनी हैं। बी.आर.सिंह को नीहार कोठारी को खासमखास माना जाता है। इसलिए मीटिंग में उन्होंने जो कुछ भी कहा, वह पत्रिका प्रबंधन के बताए एजेंडे पर ही था। यानी उनकी बातों से साफ जाहिर होता है कि नए कलेवर के बाद भी पत्रिका को ना तो अखबार खरीदने वाले ही मिल रहे हैं और ना ही विज्ञापनदाता। इस मीटिंग में वितरण विभाग की नाकामी को सम्पादकीय विभाग पर ढोलने की पूरी कोशिश की गई थी। अब देखने वाली बात यह है कि पत्रकार कब अखबार बेचते हुए नजर आएंगे।