मीडिया होल्स की खबर की पुष्टि, भास्कर प्रबंधन मना रहा मजीठिया कर्मियों को

जयपुर। मजीठिया का केस लड़ रहे सभी साथियों के लिए बड़ी खबर। अभी हाल ही में मीडिया होल्स ने दैनिक भास्कर के एमडी सुधीर अग्रवाल के सम्बंध में खबर प्रकाशित की थी। उस खबर में बताया गया था कि सुधीर अग्रवाल ने सभी यूनिट हैड और एचआर हैड की मीटिंग ली थी और मजीठिया से निपटने के तरीकों पर चर्चा की थी। साथियों अब अधिकारी उस बैठक के आदेशॉ के क्रियान्वयन में लग गए हैं। राजस्थान स्थित दैनिक भास्कर के हर सेंटर में मजीठिया की हलचल तेज हो गई है। अधिकारी केस गए साथियों को बुला रहे हैं और उनसे केस करने के कारणों पर चर्चा कर रहे हैं। साथ ही उनसे एरियर के नाम पर कुछ पैसा लेकर मामले को रफा-दफा करने को कहा जा रहा है।

स्टेट हैड ने बुलाया मजीठिया कर्मियों को

राजस्थान स्थित भास्कर के एक बड़े सेंटर से मजीठिया केस में गए कर्मचारियों को स्टेट हैड ने बुलाया। स्टेट हैड ने उन कर्मियों से कहा कि आपने यह केस किसके कहने पर किया है। आपका हैड कौन है, आपका दो साल से इंक्रीमेंट भी नहीं लगा है। आप अपना नुकसान क्यों कर रहे हैं। आपके कारण आपका परिवार भी परेशानी झेल रहा है। आप लोगों का मजीठिया के हिसाब से कितना पैसा बनता है। कर्मचारियों ने यह कहा कि हमें तो मजीठिया के हिसाब से पूरा पैसा चाहिए। उन्होंने कहा कि केस में तो सालों लग जाएंगे और कम्पनी किसी को भी इतना पैसा नहीं देगी। स्टेट हैड ने कहा कि आप आराम से सोच लो और फिर बता देना। साथियों इस सेंटर का नाम इसलिए प्रकाशित नहीं किया जा रहा है, जिससे मजीठिया लड़ रहे किसी भी साथी को कोई परेशानी ना हो। मीडिया होल्स का मुख्य उद्देश्य खबरों से मजीठिया साथियों को अपडेट रखना है, हमारी खबर से किसी को परेशानी ना हो, इसका भी हमें खयाल रखना होता है।

9 कर्मचारियों से की बात

स्टेट हैड ने इस सेंटर से कुल 9 कर्मचारियों से बात की थी। इन कर्मचारियों में 4 अकाउंट, 2 डिजाइनिंग और 3 सम्पादकीय विभाग के साथी थे। इसके साथ ही साथियों यह सूचना भी है कि इस तरह की हलचल दैनिक भास्कर के जयपुर और अलवर कार्यालय सहित कई अन्य सेंटर्स पर शुरू हो चुकी है। सभी जगह अधिकारी पांच-सात कर्मचारियों के ग्रुपों में मजीठिया साथियों को बुला रहे हैं और बात कर रहे हैं। इस वार्ता की भनक किसी और को नहीं लगने दी जा रही है। इसकी खबर भी बहुत जल्दी मीडिया होल्स आप तक पहुंचाएगा।

मीडिया होल्स की खबर की पुष्टि

साथियों, मीडिया मालिकों का यह दांव अप्रत्याशित नहीं है। इसके बारे में कई बार मीडिया होल्स खबर प्रकाशित कर चुका है। अभी हाल ही में 'दिसम्बर से पहले मिलेगा मजीठिया' नामक खबर भी प्रकाशित की गई थी। इसमें बताया गया था कि मीडिया मालिकों को उनके वकीलों ने मना कर दिया है कि वे अब केस को और ज्यादा नहीं खींच सकते। इसलिए मीडिया मालिक अब कर्मचारियों को प्रलोभन दे रहे हैं। इनकी सोच अब भी यह है कि जितना पैसा बचा सकते हैं, उतना बचा लिया जाए। इसलिए दैनिक भास्कर, राजस्थान पत्रिका सहित कई मीडिया हाउस अपने यहां कर्मचारियों से इसी तरह से बातचीत कर बीच का कोई रास्ता निकालने की सोच रहे हैं। जैसा कि मीडिया होल्स शुरू से यह कह रहा है कि मजीठिया का केस नहीं करने वाले कर्मचारियों को कुछ भी नहीं दिया जाएगा।