चमचा छोटा हो या बड़ा, मालिकों के लिए तो सिर्फ नौकर

जयपुर। सुप्रीम कोर्ट में 19 जुलाई को मजीठिया मामले में सुनवाई के दौरान राजस्थान पत्रिका से उपमहाप्रबंधक रघुनाथ सिंह और सिद्धार्थ कोठारी की पत्नी और कम्पनी में डायरेक्टर वृंदा भी दिल्ली पहुँचे। खास बात यह है कि रघुनाथ सिंह स्वयं को पत्रिका में बड़ा अधिकारी और मालिकों का खास मानते हैं। लेकिन, 19 जुलाई को वृंदा तो हवाई सफर करके दिल्ली गई थीं और इन बड़े अधिकारी को पत्रिका ने डबल डेकर से दिल्ली भेजा था। यानी ये अपने आप को कितना ही बड़ा अधिकारी और मालिकों का खास मानते हों, लेकिन, मालिकों की नजर में इनकी औकात एक नौकर से कुछ ज्यादा नहीं है। पत्रिका के पुराने कर्मचारी बताते हैं कि किसी समय रघुनाथ सिंह की औकात बहुत ज्यादा नहीं थी, लेकिन मालिकों की चमचागिरी करते-करते इस ओहदे पर पहुँच गए। खैर पत्रिका के मालिकों ने डबल डेकर से भेजकर उन्हें उनकी औकात तो दिखा ही दी।