डेली न्यूज और न्यूज टुडे होंगे बन्द!

जयपुर। राजस्थान पत्रिका प्रबंधन अब जल्द ही कॉस्ट कटिंग के नाम पर अपने दो अखबार डेली न्यूज और न्यूज टुडे को बन्द करने जा रहा है। सूत्रों का कहना है कि दोनों ही अखबारों से ना तो कोई कमाई है और ना ही पाठकों में इनकी जगह है। इनमें जो विज्ञापन आते हैं वे भी राजस्थान पत्रिका के बलबूते पर आ रहे हैं। राजस्थान पत्रिका पूरे ग्रुप के विज्ञापन बुक करता है और इनमें भी उन्हीं विज्ञापनों को लगा देता है। जबकि दोनों अखबारों का खर्चा कमाई से चौगुना हो रहा है। वहीँ इन दोनों अखबारों का लेवल भी दिन-प्रतिदिन गिर रहा है। इसलिए कॉस्ट कटिंग की यह गाज सबसे पहले इन्हीं दो अखबारों पर गिरने वाली है। सूत्रों का कहना है कि जनवरी माह में दोनों अखबार सिर्फ फाइलों में ही नजर आएंगे।

40 साल से बड़ों पर गिरेगी गाज

इन दोनों समाचार-पत्रों में कार्यरत स्टाफ में से अब उसी को रखा जाएगा, जो यंग और एनर्जेटिक हो। ढीले-ढाले और सुस्त कर्मचारियों को छंटनी करके येन-केन प्रकारेण बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा। सूत्रों का कहना है कि 40 साल से बड़े ऐसे कर्मचारी जिनका आउटपुट समाचार-पत्र के लिए बहुत ज्यादा नहीं है। उन्हें निकाला जाएगा। अब 40 साल से बड़े कर्मचारियों में उन्हीं को रखा जाएगा, जो मल्टीटास्किंग हो। यानी जो कई प्रकार के कार्यों में दक्ष हो और जरूरत पड़ने पर भाग-दौड़ भी कर सकते हों। अब कई सालों से एक ही जगह पर डेरा जमाए बैठे बुजुर्ग टाइप के कर्मचारियों की पत्रिका प्रबंधन को कोई जरूरत नहीं है। पत्रिका मालिक की सोच यह है कि एक बुजुर्ग को हटाकर उसकी सैलेरी में दो या तीन जवान कर्मचारी रखे जा सकते हैं। वे कर्मचारी उस बुजुर्ग कर्मचारी से काम भी ज्यादा करेंगे।

कार्य में सुस्त महिलाओं की होगी विदाई

सूत्रों का कहना है कि दोनों अखबारों में कार्यरत महिलाओं को भी रवाना किया जाएगा। इनमें से जो महिलाएं मल्टीटास्किंग हुईं, सिर्फ उन्हीं को रखा जाएगा। इन महिलाओं को ड्यूटी भी अब मनमुताबिक नहीं मिलेगी। अब डिजीटल विंग के हिसाब से इन्हें ड्यूटी करनी होगी और अपना वास्तविक आउटपुट दिखाना होगा।

काफी समय से चल रही थी रिहर्सल

सूत्रों का कहना है कि इसकी आहट बहुत समय पहले से भी दिखने लग गई थी। इन दोनों अखबारों के सम्पादकों और कर्मचारियों को काफी समय पहले से टीवी चैनल का कार्य भी करवाया जा रहा था। पूरे स्टाफ की कार्यशैली की रिपोर्ट पत्रिका मालिक नीहार कोठारी के पास जा रही थी। अब उनके निर्देश पर बेस्ट आउटपुट देने वाले कर्मचारियों को ही वेब न्यूज चैनल का हिस्सा बनाया जाएगा। बाकी कर्मचारियों को परेशान करके बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा।