भतीजे संग 19 नवम्बर से लापता कोयम्बटूर पत्रिका सम्पादक!

कोयम्बटूर। सैंया भये कोतवाल, फिर डर काहे का। कुछ ऐसा ही हो रहा है राजस्थान पत्रिका के कोयम्बटूर ऑफिस में। पत्रिका कोयम्बटूर के सम्पादक सन्तोष पाण्डेय 19 नवम्बर से अघोषित अवकाश पर हैं। अघोषित इसलिए कि वे बिना बताए अवकाश पर चल रहे हैं। खास बात यह है कि इसी ऑफिस में उनका भतीजा अनुराज पाण्डेय भी है, जो चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी है। वह भी उनके साथ ही 19 नवम्बर से बिना बताए अवकाश पर है। यूं तो ऑफिस में आधिकारिक सूचना किसी के पास नहीं है कि वे दोनों कहां गए हैं। लेकिन, सूत्रों का कहना है कि सम्पादक भतीजे के साथ अपने लखनऊ स्थित घर गए हैं। दोनों के अवकाश की सूचना प्रशासन में किसी के पास भी नहीं है।

ऑफ एडजस्ट करने का चल रहा खेल

सूत्रों का कहना है कि दोनों ने अपने ऑफ एकत्रित कर रखे हैं। वे अवकाश लेकर अपने ऑफ एडजस्ट कर रहे हैं। सम्पादक का घर कोयम्बटूर में ऑफिस के पास ही है, इसलिए वे रविवार को भी ड्यूटी पर आ जाते हैं। अब वे अपने ऑफ लेकर लखनऊ स्थित घर गए हैं। सूत्रों की मानें तो ये ऑफ एडजस्ट करने की सुविधा किसी और के लिए नहीं है। सभी कर्मचारियों को ऑफ अनिवार्य दिया जाता है। दूसरे कर्मचारियों को ऑफ एकत्रित करने की सुविधा नहीं है। सूत्रों का कहना है कि भेदभाव का यह खेल खुलेआम इसलिए चल रहा है कि वह स्वयं सम्पादक है। इसलिए उन्हें टोकने की हिम्मत किसी की नहीं होती है। यानी जब सैंया भये कोतवाल तो फिर डर काहे का।